» » Miss Indubala - तन मन वारुं बांके सांवरया / सखी मोरे आजहुं न आये सांवलया

Miss Indubala - तन मन वारुं बांके सांवरया / सखी मोरे आजहुं न आये सांवलया mp3 album

  • Performer: Miss Indubala
  • Title: तन मन वारुं बांके सांवरया / सखी मोरे आजहुं न आये सांवलया
  • Genre: World, Country
  • Formats: AU AHX WMA AA VOC VOX MP4
  • Released: 1932
  • Style: Hindustani, Indian Classical
  • MP3 album: 1554 mb
  • FLAC album: 1660 mb
  • Rating: 4.8/5
  • Votes: 804
Miss Indubala - तन मन वारुं बांके सांवरया / सखी मोरे आजहुं न आये सांवलया mp3 album

ेरे सोहने साँवरिया, Sonipat. Religious organisation. True love of radha Krishna.

िलक त्रिपुण्ड भाल मन भावन॥ राजत मणि मुक्तन उर माला। स्वर्ण मुकुट शिर नयन विशाला॥ . Similar Chalisa: Hanuman Chalisa, Shiv Chalisa, Saraswati Chalisa, Surya Chalisa. ुन्दर पीताम्बर तन साजित । चरण पादुका मुनि मन राजित ॥ धनि शिवसुवन षडानन भ्राता । गौरी ललन विश्वविख्याता ॥ [पीले रंग के सुंदर वस्त्र आपके तन पर सज्जित हैं। आपकी चरण पादुकाएं भी इतनी आकर्षक हैं कि ऋषि मुनियों का मन भी उन्हें देखकर खुश हो जाता है। हे भगवान शिव के पुत्र व षडानन अर्थात कार्तिकेय के भ्राता आप धन्य हैं।

ेरा पति इतना अच्छा व्यक्ति है कि कोई भी लड़की उसकी चाह रख सकती ह. ेकिन जब मेरे उसके साथ अंतरंग या घनिष्ठ होने की बात आती है तो मैं स्वयं को बहुत सहज नहीं पाती या ऐसा करने की मुझे इच्छा नहीं होती। जब वह मुझे छूता है तो मुझे लगता है जैसे कोई अजनबी मुझे छू रहा है और यही कारण है कि मैं कभी सेक्स की पहल नहीं करती। . You may also enjoy: तीन पुरूषों से प्यार करने पर क्या मैं अनैतिक हूँ.

युः कर्म च विद्या च वित्तं निधनमेव च । पञ्चैतानि विलिख्यन्ते गर्भस्थस्यैव देहिनः ॥ अर्थ: आयु, कर्म, विद्या, वित्त, और मृत्यु, ये पाँच चीजें व्यक्ति के गर्भ में हीं निश्चित हो जाती है. आरोग्य बुद्धि विनयोद्यम शास्त्ररागाः । आभ्यन्तराः पठन सिद्धिकराः भवन्ति ॥. .

ीथल और पाथल: कन्हैयालाल सेठिया की महाराणा प्रताप पर राजस्थानी वीर रस कविता - Kanhaiyalal Sethia Rajasthani Classic Poem about Rana Pratap पीथल और पाथल: कन्हैयालाल सेठिया जी की राजस्थानी में लिखी गयी यह अति-लोकप्रिय वीर रस कविता ह.

ीवन डगर में, प्रेमनगर में आया नजर में जब से कोई है तू सोचता है तू पूछता है जिस की कमी थी क्या ये वो ही है, हाँ ये वो ही है तू इक प्यासा और ये नदी है काहे नहीं इस को तू खुल के बताए. ेरी निगाहें पा गई राहें पर तू ये सोचे जाऊँ ना जाऊँ ये ज़िन्दगी जो है नाचती तो क्यों बेडीयों में हैं तेरे पाँव प्रीत की धून पर नाच ले पागल उडता अगर है उडने दे आँचल काहे कोई अपने को ऐसे तरसाए.

ेरी सहेली रमा जिसकी सत्रह साल की बेटा उसकी बात नहीं मानता। सारा दिन मोबाइल पर दोस्तों के साथ चैटींग करता है या गेम खेलता है। रमा बहुत अवसाद में हैं कि वो एक अच्छी माँ नहीं बन पाई तथा तरह-तरह की बीमारियों ने उसे घेर रखा है। मेरी दूर के रिश्ते की ननद इसलिए दुःखी है क्योंकि उसके पति और ससुराल वाले उसकी किसी भी बात की सराहना नहीं करते थे। . क सर्वेक्षण के अनुसार ७०% माताएं अपने जीवन से खुश नहीं है। मैंने अपने जीवन में आजमाएं गये कुछ उपाय, कुछ मेरी माँ की सीख और कुछ मेरी दोस्तों की सलाह से अपने जीवन में बहुत बदलाव किये है। आज दावे के साथ कह सकती हूँ कि मैं सकारात्मकता से भरपूर एक खुशमिजाज इंसान हूँ। दोस्तों, मेरे कुछ विचार मैं आपसे भी साझा करना चाहूँगी, शायद इसे पढ़कर किसी बहन के जीवन में कोई बदलाव आ जाए। १- मैं कितनी अच्छी माँ हूँ? पहला प्रश्न आप अपने आप से किजिए क्या आप अपने बच्चे के लिए जो भी करती है उतना निस्वार्थ भाव से आपके बच्चे के लिए कोई कर सकता है। नहीं न. िर आपको किसी से प्रमाणपत्र लेने की जरूरत नहीं।

Tracklist

A तन मन वारुं बांके सांवरया
B सखी मोरे आजहुं न आये सांवलया

Companies, etc.

  • Manufactured By – The Gramophone Co., Ltd., Calcutta

Notes

Hindi song
Text on labels in Roman, Urdu & Devanagari

A - tana man vaarun banke sanvariya
B - sakhi more ajahun na aaye sanvalaya

Barcode and Other Identifiers

  • Matrix / Runout (Side A): OE. 3044
  • Matrix / Runout (Side B): OE. 3045


Related to Miss Indubala - तन मन वारुं बांके सांवरया / सखी मोरे आजहुं न आये सांवलया albums: